people wants to change national capital as delhi faces severe air pollution smog, गैस चैम्‍बर दिल्‍ली से परेशान लोग, सोशल मीडिया पर कर रहे राजधानी बदलने की बात | delhi-ncr – News in Hindi

गैस चैंबर बनी दिल्‍ली से परेशान लोग, सोशल मीडिया पर उठाई राजधानी बदलने की मांग

दिल्‍ली में वायु प्रदूषण बेहद चिंताजनक स्‍तर पर है.

दिल्‍ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में वायु प्रदूषण (Air Pollution) से हालात काफी खराब हैं. दिल्‍ली (Delhi) में सोमवार को एयर क्‍वालिटी इंडेक्‍स (AQI) 500 है. लेकिन यह अब भी बेहद खतरनाक स्‍तर पर है. रविवार को एक्‍यूआई 494 पर औसत था.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    November 4, 2019, 4:01 PM IST

नई दिल्ली. दिल्‍ली में वायु प्रदूषण (Delhi Air Pollution) और धुंध (Delhi Smog) की स्थिति इतनी खराब हो चुकी है कि अब लोगों में इसे लेकर नाराजगी साफ देखी जा स‍कती है. एक सर्वे के अनुसार रविवार को यह कहा गया था कि दिल्‍ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के 40 फीसदी लोग वायु प्रदूषण (Air Pollution) के चलते कहीं और बसने की इच्‍छा जाहिर कर चुके हैं. अब ट्विटर पर लोगों ने देश की राजधानी दिल्‍ली के बजाय किसी और शहर को बनाए जाने की चर्चाएं करना शुरू कर दिया है.

दिल्‍ली में सोमवार को एयर क्‍वालिटी इंडेक्‍स (AQI) 500 है, लेकिन यह अब भी बेहद खतरनाक स्‍तर पर है. रविवार को एक्‍यूआई 494 पर औसत था. यह नवंबर 2016 के बाद से सर्वाधिक स्‍तर रिकॉर्ड किया गया था. दिल्‍ली-एनसीआर में सोमवार को भी धुंध की चादर लिपटी हुई है. इस कारण स्‍कूल भी बंद कर दिए गए हैं.

दिल्‍ली स्थित राजपथ पर सोमवार सुबह कुछ ऐसा था हाल.

दिल्‍ली के ऐसे विषम हालात को देखते हुए अब लोगों ने यह भी कहना शुरू कर दिया है कि क्‍या दिल्‍ली देश की राजधानी बने रहने के उपयुक्‍त है. 

ट्विटर पर इसे लेकर बहस छिड़ी हुई है.

 

कुछ यूजर्स ने ट्वीट कर देश की राजधानी को दिल्‍ली के बजाय नागपुर, बेंगलुरु, चेन्‍नई जैसे शहरों को बनाने की बात कही है.

 

एक ट्विटर यूजर ने लिखा है कि मुझे लगता है कि देश की राजधानी को जल्‍द ही दिल्‍ली से कहीं और शिफ्ट करने की जरूरत है.

 

वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा है कि देश की राजधानी को मध्‍य भारत में कहीं शिफ्ट किया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें: प्रदूषण का डर: 40 फीसदी लोग छोड़ना चाहते हैं दिल्‍ली-NCR

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: November 4, 2019, 1:37 PM IST

Source link

Leave a Comment

%d bloggers like this: